हिंदी भाषा, साहित्य, गीत, गजल, शायरी व विविध उपयोगी सामग्री हिंदी में

नवीनतम

Post Top Ad

Your Ad Spot

01 मई 2017

दर्द की इन्तहा

दर्द की इन्तहा हुई फिर से।
लो तेरी याद आ गयी फिर से।।

फिर कहाँ चढ़ रहा है रंग-ए-हिना,
कहाँ बिजली सी गिर गयी फिर से।।

बंदिशें तोड़ के, ठुकरा के लौट आया है,
दिल को ग़फ़लत सी हो गयी फिर से।।

वही ख़ुशबू जो बस गयी है मेरे सीने में,
अश्क़ बनकर छलक उठी फिर से।।

बाल कृष्ण द्विवेदी 'पंकज'
सम्पर्क-९६५१२९३९८३

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages